हिंदी में ब्लॉगिंग करके धन कमाने के टॉप तरीके

अपने कई ऐसे ब्लॉगर मित्र हैं जिन्होंने अपने ब्लॉग से पैसे कमाने के कई तरीके अपना कर देख लिए लेकिन पैसा आता ही नहीं. 

हमने 'टॉप ब्लॉग्स' याने अपनी अंग्रेजी साइट पर ब्लॉगिंग से धन कमाने के 5 ऐसे तरीकों के बारे में विस्तार से जानकारी दी है जो 2018 में और उसके बाद भी कारगर हैं. इन्हें हिंदी को समर्पित इस ब्लॉग पर भी साझा कर रहे हैं ताकि और ब्लॉगर मित्रों तक यह जानकारी पहुँच सके और वो इस मामले में सही कदम उठा कर धनार्जन कर सकें: 

Top ways to earn money from a Hindi blog (हिंदी में)


हिंदी के सर्वश्रेष्ठ ब्लॉग्स की डायरेक्टरी का 2018 संस्करण | 2018 edition of the Directory of Best Hindi Blogs

हिंदी के सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगों की डायरेक्टरी का 2018 संस्करण प्रकाशित हो गया है. इसमें क़रीब 125 ब्लॉग हैं जो हिंदी के सर्वोत्तम ब्लॉग कहे जा सकते हैं. 

top blogs in Hindi


डायरेक्टरी में जाने के लिए इधर क्लिक करें: हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगों की डायरेक्टरी
हिंदी ब्लॉग जगत में क्या कुछ है, इधर देखें: हिंदी ब्लॉगिंग के संसार में हमने क्या पाया? (दो भाग में)

Hindi blogs: key observations on design | हिंदी ब्लॉगों के डिजाईन पर कुछ अहम् विचार

ITB पर लिखी गई इस पोस्ट में हमने हिंदी ब्लॉगों में डिजाईन की कमज़ोरियों के बारे में विस्तार से चर्चा की है. हालांकि यह पोस्ट इंग्लिश में है, डिजाईन के पहलुओं को चित्रों के माध्यम से समझाया गया है. आशा है, आप इससे लाभ उठा पाएंगे.

यह रही हिंदी ब्लॉग डिजाईन पर पोस्ट: Hindi blog design issues: key observations
 

Hindi blog web design


चूंकि अब ITB पर मुख्य सामग्री इंग्लिश में होती है और हम हिंदी की ब्लॉगिंग से सम्बन्धी जानकारी अब इस छोटे से ब्लॉग पर देते हैं, ITB की हिन्दी के बारे में लिखी गई ऎसी पुरानी पोस्टों को जो अभी भी प्रासंगिक हैं हम यहाँ पुनः प्रकाशित कर रहे हैं या उनके लिंक इस ब्लॉग में साझा कर रहे हैं. आते रहिए.

Why should anyone bother about Hindi blogging? | हिंदी ब्लॉगिंग की किसी को फ़िक्र क्यों हो?

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्र सरकार से RTI अर्ज़ी के माध्यम से जानना चाहा है कि  सरकार की सोशल मीडिया में विज्ञापन देने के बारे में क्या नीति है. केजरीवाल और उनके साथियों का मानना है कि केंद्र सरकार उनके साथ दोहरे मानदंड अपनाती है: जब प्रधानमंत्री सोशल मीडिया में अपनी बात कहते हैं तो वह देशप्रेम हो जाता है और जब दिल्ली सरकार 'Talk to AK' app बनाने के लिए ठेका  देती है तो वह भ्रष्टाचार मान लिया जाता है.

Who cares for Hindi blogging
सिसोदिया की RTI अर्ज़ी औरउनकी इस बारे में पत्रकार वार्ता पूरी तरह राजनीतिक है. लेकिन हमने भी केंद्र सरकार को कई बार लिखा है कि वह छोटे अखबारों की तरह ब्लॉगों को भी विज्ञापन दे, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है और न होने का चांस है जबतक मोदी जी को इसमें देश के साथ-साथ अपने भी प्रचार का हित नज़र आने लगे.

यहां पर हम अपने उस ब्लॉग पोस्ट का लिंक दे रहे हैं जहां पर हमने यह बताने की कोशिश की है कि किस तरह ब्लॉग अखबारों से अधिक प्रभावी हैं सरकारों के प्रचार तथा विकास/ समाज से जुड़े संदेशों को लोगों तक पहुंचाने के लिए: Why Should Governments Support Blogs 

सभी हिंदी ब्लॉगर मित्रों को अच्छा लगेगा अगर दिल्ली सरकार इस मामले में सोचे. सिसोदिया जी, आप सुन रहे हैं? बिलकुल नहीं.